North India Times

- Advertisement -

हरियाणा में 20 लाख रोजगार का सृजन करेगी स्वराज इंडिया: योगेन्द्र यादव 

स्वराज इंडिया पहली पार्टी है जो चुनाव में सिर्फ घोषणाओं की लिस्ट नहीं बल्कि सम्पूर्ण रोजगार की समग्र कार्ययोजना पेश कर खर्च व आमदनी का हिसाब भी बता रही है :

*      “सम्पूर्ण रोजगार का हरियाणा मॉडल”  पेश कर 9 सितम्बर को करनाल में किये संकल्प का निर्वाह किया है : योगेन्द्र यादव 

*     स्वराज इंडिया के लिए रोजगार का अर्थ है : सबको रोजगार, समान रोजगार व सार्थक रोजगार : दीपक लाम्बा

स्वराज इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष योगेन्द्र यादव ने कहा है कि वे एक ऐसा हरियाणा बनाने के लिए संकल्पबद्ध हैं जहां हर हाथ को काम मिले, हर काम को सम्मान मिले, हर नौकरी के चयन में पारदर्शिता हो, समान काम का समान वेतन हो। उन्होंने कहा कि वे राज्य में युवाओं का भविष्य साकारात्मक रूप से  बदल देने के लिए संघर्षरत है.
 
 यादव ने कहा कि स्वराज इंडिया ने राज्य में किसानों व युवाओं से जुड़े मुद्दों को ही राजनीतिक संघर्ष का लक्ष्य बनाया है।  स्वराज इंडिया ने  इन विधानसभा चुनाव में भी राज्य में बेरोज़गारी को मुख्य चुनावी मुद्दा बनाया है । वे हर हाथ के लिए काम दिए जाने के लिए कृतसंकल्प हैं।
 
  उन्होंने कहा कि बीती 09 सितम्बर को सीएम सिटी करनाल में स्वराज इंडिया द्वारा आयोजित बेरोज़गारी पर खुली बहस के बाद स्वराज इंडिया ने संकल्प लिया था कि :
 
  “जहां हर हाथ को काम मिले, हर काम को सम्मान मिले, हर नौकरी के  चयन में पारदर्शिता हो, समान काम का समान वेतन हो। इन लक्ष्यों को पूरा करने के लिए एक विस्तृत खाका/ब्लूप्रिंट और कार्य योजना हम जल्द ही हरियाणा की जनता के सामने पेश करेंगे। हम यह संकल्प लेते हैं कि आगामी विधानसभा चुनाव में बेरोजगारी के मुद्दे को हरियाणा के हर मतदाता तक पहुंचाएंगे ताकि अगली सरकार पूर्ण रोजगार के लिए प्रतिबद्ध हो।”

हरियाणा की भाजपा सरकार ने नौकरियों के नाम पर की धोखाधड़ी

 

स्वराज इंडिया के अध्यक्ष राजीव गोदारा ने कहा कि पार्टी ने विधानसभा चुनावों में एक नयी तरह की शुरुआत करते हुए सिर्फ़ चुनावी वादे ही नहीं किए बल्कि हर वादे की विस्तृत कार्ययोजना पेश की है।  स्वराज इंडिया ने अपने “ईमानपत्र”  में बताया है कि कितने युवाओं को रोज़गार दिया जाएगा और रोज़गार के उतने अवसर कहाँ और कैसे पैदा किए जाएँगे।

 

प्रदेश महासचिव दीपक लाम्बा ने कहा कि युवाओं को रोज़गार देने का खट्टर सरकार का वादा किसानों से किए गए वादे की तरह ही झूठा निकला. राज्य में नौकरियाँ देने में धाँधलियाँ हुई. लाम्बा ने कहा कि स्वराज इंडिया सरकारी नौकरियों में समानता, पारदर्शिता बरतने, न्यायपूर्ण होने और रिक्त पद बिना देरी के भरने के प्रति संकल्पबद्ध है.

स्वराज इंडिया खोलेगी रोजगार का पिटारा

  •  गोदारा ने बताया कि शिक्षा के क्षेत्र में क़रीब 73 हज़ार रोज़गार पैदा किए जाएँगे. इनमें से 26 हज़ार पद आंगनवाड़ी में होंगे। इसके अलावा स्वास्थ्य क्षेत्र में रोज़गार के 50 हज़ार अवसर सृजित किए जाएँगे जिनमें 18 हज़ार एएनएम और दस हज़ार सपोर्ट स्टाफ़ शामिल होगा।डाक्टरों की मौजूदा वेकन्सी को भरने के लिए दो हज़ार से अधिक डॉक्टरों की नियुक्ति भी की जाएगी। इसके अलावा हर हाथ को काम के संकल्प के तहत मनरेगा योजना के तहत मिलने वाला सालान रोजगार 78 लाख दिहाड़ी से बढ़कर का 7.8 करोड़ दिहाड़ी तक ले जाया जाएगा. शहरी रोज़गार गारंटी योजना के तहत भी एक साल में एक सौ दिन रोज़गार दिया जाएगा.

Leave A Reply

Your email address will not be published.