North India Times

- Advertisement -

घाटे में चल रहे हिमाचल के होटल लीज पर देने का विरोध

सीएम को अगर होटल बेचने के निर्णय की जानकारी नहीं तो फिर कौन चला रहा सरकार : सूक्खू

अगर सीएम जयराम ठाकुर को होटल बेचने का निर्णय लिए जाने की जानकारी नहीं है तो फिर सरकार कौन चला रहा है। क्या उनसे ऊपर कोई सुपर सीएम भी है, जिसके इशारे पर यह निर्णय हुआ है : सुखविंद्र सिंह सूक्खू

हिमाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व अध्यक्ष व विधायक सुखविंद्र सिंह सूक्खू ने हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम के होटलों को लीज पर देने का विरोध किया है |
कांग्रेस नेता का कहना है कि प्रदेश सरकार ने अभी निगम के होटलों को बेचना शुरू किया, आने वाले समय में किसानों की जमीनें कौड़ियों के भाव चहेतों को बेची जाएंगी।
सूक्खू ने सवाल उठाया कि अगर सीएम जयराम ठाकुर को #होटल बेचने का निर्णय लिए जाने की जानकारी नहीं है तो फिर सरकार कौन चला रहा है। क्या उनसे ऊपर कोई सुपर सीएम भी है, जिसके इशारे पर यह निर्णय हुआ है। विधानसभा का मानसून सत्र चल रहा है, सरकार होटल बेचने को लेकर सदन में वक्तव्य दे। आखिर किस मजबूरी में यह निर्णय लिया गया है।

कांग्रेस नेता का कहना है कि निगम का ही 100 बीघा में स्थित वाइल्ड फ्लावर हाल होटल 99 साल की लीज पर देने के बाद 50 लाख के मुनाफे में आ गया है। सरकार को निगम के होटलों को बेचने के बजाए फायदे में लाने की नीति बनानी चाहिए थी। नए होटल स्थापित किए जाते।
सूक्खू का कहना है कि विनिवेश के किसी भी फैसले को कैबिनेट मंजूरी देती है। वह जानना चाहते हैं कि क्या होटलों को बेचने का प्रस्ताव कैबिनेट बैठक में लाया गया था। अगर ऐसा नहीं है तो प्रदेश सरकार में सब ठीक नहीं चल रहा है। यह बात एक बार फिर साबित हो गई है कि भाजपा सरकार हिमाचल के हितों को बेचने में भी पीछे नहीं रहने वाली है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.