North India Times
North India Breaking political, entertainment and general news

अंतर्राष्ट्रीय स्वच्छ वायु दिवस

अंतर्राष्ट्रीय स्वच्छ वायु दिवस: 7 सितम्बर 2020 को पहली बार मनाया गया

0 6

Warning: A non-numeric value encountered in /home/northcyp/public_html/wp-content/themes/publisher1/includes/func-review-rating.php on line 212

Warning: A non-numeric value encountered in /home/northcyp/public_html/wp-content/themes/publisher1/includes/func-review-rating.php on line 213

नीले आकाश के लिए प्रथम अंतर्राष्ट्रीय स्वच्छ वायु दिवस आज दुनियाभर में मनाया जा रहा है।

लोगों के स्वास्थ्य और दैनिक जीवन के लिए स्वच्छ हवा के महत्व के बारे में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने यह दिवस मनाने की घोषणा की है।

इस अवसर पर आज एक वेबिनार का आयोजन किया गया जिसकी अध्‍यक्षता सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने की।

इस अवसर पर जावडेकर ने कहा कि जनसंख्‍या, उद्योगों, वाहनों, कचरे और धूल के कारण प्रदूषण में वृद्धि हो रही है।

जावडेकर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने इस वर्ष स्‍वतंत्रता दिवस के अवसर पर लाल किले से अपने सम्‍बोधन में देश के सौ शहरों की वायु गुणवत्‍ता में समग्र सुधार की आवश्‍यकता पर बल दिया था।

श्री जावडेकर ने कहा कि सरकार ने देश में प्रदूषण का स्‍तर कम करने के लिए पिछले कुछ वर्षों में अनेक उपाय किए हैं।

इनमें राष्‍ट्रीय स्‍वच्‍छ वायु कार्यक्रम और राष्‍ट्रीय वायु गुणवत्‍ता सूचकांक, उद्योगों के लिए उत्‍सृजन मानक बढ़ाते हुए बीएस – 6 ईंधन मानक लागू करना, जाम की समस्‍या दूर करने के लिए सड़कों का निर्माण और इलेक्‍ट्रॉनिक वाहनों पर विशेष बल देना जैसे उपाय शामिल हैं।

श्री जावडेकर ने वेबिनार के दौरान राष्‍ट्रीय स्‍वच्‍छ वायु कार्यक्रम के अंतर्गत गतिविधियों की प्रगति की समीक्षा भी की।

वेबिनार का आयोजन 28 राज्‍यों और आठ केंद्रशासित प्रदेशों के शहरी विकास और पर्यावरण विभागों ने संयुक्‍त रूप से किया। राष्‍ट्रीय स्‍वच्‍छ वायु कार्यक्रम में चिन्हित एक सौ 22 शहरों के आयुक्‍तों ने भी वेबिनार में हिस्‍सा लिया।

संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा ने पिछले वर्ष 19 दिसम्‍बर को हर वर्ष सात सितम्‍बर को नीले आकाश के लिए अंतरराष्‍ट्रीय स्‍वच्‍छ वायु दिवस मनाने का प्रस्‍ताव पारित किया था।

संयुक्त राष्ट्र महासचिव अन्तोनियो गुतेरेस ने वायु प्रदूषण के खतरों का उल्लेख करते हुए इससे निपटने के ज्यादा से ज्‍यादा प्रयास करने का आग्रह किया।

उन्होंने कहा कि वायु प्रदूषण के कारण ह्रदय रोग, आघात, फेफड़ों का कैंसर और सांस की अन्य बीमारियां होती हैं। इससे अर्थव्यवस्था, खाद्य सुरक्षा और पर्यावरण को भी नुकसान होता है।

श्री गुतेरेस ने कहा कि दुनिया कोविड महामारी से उबर रही है, इसलिए अब वायु प्रदूषण से निपटने की आवश्यकता पर ज्यादा ध्यान दिया जाना चाहिए।

Leave A Reply

Your email address will not be published.