North India Times
North India Breaking political, entertainment and general news

बिलासपुर :क्वारंटाइन घायल युवक के साथ जानवरों जैसा सलूक

दो घंटे तक तड़पता रहा युवक,108 एंबुलैंस में तैनात कर्मियों ने नही लगाया हाथ

0 67

Warning: A non-numeric value encountered in /home/northcyp/public_html/wp-content/themes/publisher1/includes/func-review-rating.php on line 212

Warning: A non-numeric value encountered in /home/northcyp/public_html/wp-content/themes/publisher1/includes/func-review-rating.php on line 213

आरोपी 108 एंबुलेंस के फार्मासिस्ट कमल और चालक के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज ।मुख्यमंत्री ने दिए मजिस्ट्रियल जांच के आदेश

बिलासपुर जिले के स्वारघाट में क्वॉरेंटाइन किए गए एक युवक की एक हादसे में दर्दनाक मौत और उसके बाद उसके शव से किया गया अमानवीय बर्ताव हिमाचल सरकार के गले की फांस बन गया है।

जांच में सामने आया है कि हंसराज नामक का यह व्यक्ति क्वारंटाइन सेंटर के बाथरूम में गिर कर बुरी तरह घायल हो गया। चीख पुकार मचने के बावजूद भी नजदीक खड़ी 108 एंबुलेंस में मौजूद फार्मासिस्ट कमल और ड्राइवर ने घायल युवक की कोई सुध नहीं ली। पौने 2 घंटे तक घायल युवक दर्द से तड़पता रहा और यह नकारा कर्मचारी मजे से बैठे रहे।

हंसराज को कोरोनावायरस की पुष्टि नहीं हुई थी । उसे सिर्फ क्वॉरेंटाइन किया गया था जबकि एंबुलेंस में मौजूद सभी कर्मचारी पीपीई किट पहने थे उसके बावजूद भी उसे एंबुलेंस में शिफ्ट नहीं किया गया।

उधर युवक ने शरीर से ज्यादा खून बह जाने के कारण आईजीएमसी ले जाते समय दम तोड़ दिया । इस अभागे युवक के साथ हुआ अमानवीय बर्ताव यहीं नहीं थमा और मौत के बाद भी जारी रहा । आरोप है कि आईजीएमसी के बाहर 5 घंटे तक सब लावारिस हालत में पड़ा रहा।

बिलासपुर पुलिस ने घायल युवक को पहुंचाया अस्पताल

बिलासपुर के स्वारघाट थाने में तैनात पुलिस कर्मियों ने सूचना मिलते ही घायल हंसराज को बिलासपुर के अस्पताल पहुंचाया जहां से उसे आईजीएमसी शिमला रेफर कर दिया गया । लेकिन शरीर से ज्यादा खून बह जाने के कारण हंसराज ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया ।

डॉक्टरों का मानना है कि अगर पीड़ित को समय पर अस्पताल पहुंचा दिया जाता तो शायद उसकी जान बचाई जा सकती थी।

स्वारघाट थाने में तैनात पुलिस कर्मियों की तारीफ ,मिला प्रशस्ति पत्र, इनाम

घायल हंसराज को अस्पताल पहुंचाने में दिखाई गई इंसानियत के बाद अब स्वारघाट पुलिस थाने में तैनात थाना प्रमुख और दूसरे कर्मचारियों की खूब तारीफ की जा रही है। उनको पुलिस विभाग की तरफ से नकद इनाम और प्रशस्ति पत्र जारी किए गए हैं।

108 एंबुलेंस में कार्यरत लापरवाह कर्मचारियों के खिलाफ आपराधिक मामला

उधर जांच में दोषी पाए जाने के बाद 108 एंबुलेंस में मौजूद फार्मासिस्ट और ड्राइवर के खिलाफ धारा 304 ए और 341 आईपीसी के तहत मामले दर्ज किए गए है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने इस पूरे मामले की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.