North India Times
North India Breaking political, entertainment and general news

मेरा पानी-मेरी विरासत : धान छोड़ कपास उगाओ 7 हज़ार पाओ

मेरा पानी-मेरी विरासत : योजना के तहत पहली किश्त का भुगतान शुरू कर दिया गया है

0 16

Warning: A non-numeric value encountered in /home/northcyp/public_html/wp-content/themes/publisher1/includes/func-review-rating.php on line 212

Warning: A non-numeric value encountered in /home/northcyp/public_html/wp-content/themes/publisher1/includes/func-review-rating.php on line 213

मेरा पानी-मेरी विरासत का पैसा सिर्फ उन किसानो को ही मिलेगा जिन्होंने मेरा पानी-मेरी विरासत के नियमो के मुताबिक धान की फसल नहीं लगाई है। फसल विविधिकरण योजना के अनुसार सरकार किसानो को धान की फसल की बजाए दूसरी फसलें लगाने की और प्रोत्साहित कर रही है जिनको उगाने में पानी का काम खर्च आता है।

हरियाणा के किसानो के लिए एक अच्छी खबर है।

राज्य सरकार ने मेरा पानी- मेरी विरासत योजना के तहत धान की फ़सल न लगाने वाले किसानो को प्रोत्साहन राशि की पहली किश्त नकद देने की घोषणा कर दी है।

किसानो को दो हज़ार रूपये प्रति एकड़ देने का फैसला किया है। ये रकम किसानो के बैंक खाते में जमा करवाई जाएगी।

इस योजना के तहत राज्य सरकार द्वारा 7 हजार रुपये प्रति एकड़ देने का वादा किया गया। जिसमें 2 हजार रुपये की पहली किस्त फसल के सत्यापन के बाद और बाकि पांच हजार रुपये फसल पकने के बाद मिलेंगे।

जानिए कौन किसान हैं मेरा पानी-मेरी विरासत योजना के हकदार

पैसा सिर्फ उन किसानो को ही मिलेगा जिन्होंने मेरा पानी-मेरी विरासत के नियमो के मुताबिक धान की फसल नहीं लगाई है। फसल विविधिकरण योजना के अनुसार सरकार किसानो को धान की फसल की बजाए दूसरी फसलें लगाने की और प्रोत्साहित कर रही है जिनको उगाने में पानी का काम खर्च आता है।

खासकर किसानो को धान की जगह कपास की फसल लगाने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है।

सिरसा, फतेहाबाद, जींद, हिसार, कैथल, झज्जर, भिवानी, चरखी दादरी, सोनीपत, रोहतक, फरीदाबाद, पलवल, रेवाड़ी, मेवात, गुरुग्राम, पानीपत और करनाल में कुल 20,420 हेक्टेयर पर में धान को छोड़कर कपास की बुआई करवाई जा रही है।

इस तरह होगा मेरा पानी-मेरी विरासत प्रोत्साहन राशि का भुगतान

हरियाणा के कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव संजीव कौशल ने बताया कि ‘मेरा पानी मेरी विरासत’ योजना के तहत किसानों के बैंक खातों में 2,000 रुपये प्रति एकड़ के हिसाब से पहली किस्त जमा कर दी जाएगी।

यह राशि हरियाणा के 17 जिलों में खरीफ-2020 के दौरान धान को छोड़कर कपास की फसल की बुआई करने वाले किसानों को दी जाएगी।

सरकार किसानो को इस योजना की पहली किस्त पर कुल 10.21 करोड़ खर्च करेगी।

पहले कृषि विभाग के अधिकारी समन्धित किसान का वेरिफिकेशन करेंगे। उसके बाद डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के जरिये राशि उनके खाते में पहुंच जाएगी।

सिरसा जिला के कपास उत्पादकों को इस योजना से सबसे ज्यादा फायदा होगा । इस जिला में नकदी फसल बोने वाले किसानों को 2.26 करोड़ बाँटें जाएंगे।

फतेहाबाद जिला के किसानों को 1.98 करोड़ और जींद जिला के किसानों को 1.97 करोड़ मिलेंगे।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.