वीरभद्र सिंह का इमोशनल अत्याचार !

0
653

शिमला: छठी बार मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठने के ख्वाब देख रहे कांग्रेस अध्यक्ष वीरभद्र सिंह अब लोगों पर इमोशनल अत्याचार कर रहे हैं| बुधवार को भरमौर में यह कह कर की ये उनका आख़िरी चुनाव है उन्होने वो सब भी कह दिया जिसका ना किसी को इंतजार था और  ना कोई उम्मीद | यानी राजनीति से सन्यास|  जिस बात को सुनने के लिए जी एस बाली , कौल सिंह ठाकुर , आशा कुमारी आदि के कान बेकरार थे वो बात|

दरअसल हिमाचल कांग्रेस में भी अब लोग बदलाव चाहते हैं | लेकिन आज तक वीरभद्र सिंह की महत्वकांक्षा के आगे किसी की एक न चली|पिछली बार विद्या स्टॉक्स मुख्यमंत्री बनाने के सपने ले रही थीं लेकिन बदक़िस्मती से पार्टी बहुमत हासिल नही कर पाई|अबकी बार बाली और कौल सिंह दोनो मुख्यमंत्री बनना चाहते थे लेकिन वीरभद्र सिंह ने ऐसी चाल चली की दोनो को चारों खाने चित करके ही दम लिया और छठी बार मुखमंत्री बनने के सभी रास्ते अपने नाम कर लिए | कौल सिंह ठाकुर को तो कांगेस अध्यक्ष भी ना रहने दिया |

अब उन्होंने कांग्रेस के प्रचार की रैली में पहले दिन ही इमोशनल अत्याचार का सहारा भी ले लिया | सीधे सपाट लहजे में कह डाला की ये उनका आख़िरी चुनाव है और मतदाता उनके ५० साल के सेवाकाल को सामने रख कर उनको आख़िरी बार मुख्यमंत्री की कुर्सी तक ज़रूर पहुँचाएंगे| उसके बाद बाली या कौल सिंह कोई भी मुख्यमंत्री बने कोई दिक्कत नही|

लेकिन सिंह साहब आपने विजय सिंह मनकोटिया, आशा कुमारी, कौल सिंह, जी एस बाली सबको टिकट तो दिलवा दिए लेकिन जीतने के बाद ये लोग आप पर क्या क्या प्रयोग करेंगे ये शायद आपको पता नही| अभी तो दिल्ली दूर है | आपने सन्यास की घोषणा तो कर दी पर अगर कही भाजपा ने मिशन रीपीट कर दिया तो क्या होगा ? और अगर आप जीत गये और आपके विरोधियों ने गेम चेंज करने की कोशिंश की तो क्या होगा? अभी कहना मुश्किल है लेकिन आपकी हिम्मत को सलाम | भगवान आपकी ये छोटी सी आशा ज़रूर पूरी करे |

English Tags: Virbhadra Singh, Congress, Himachal Pradesh, Shimla, Bharmour, Chamba, Asha Kumari, G S Baali, Kaul Singh Thakur, elections

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here