North India Times
North India Breaking political, entertainment and general news

सुखबीर बादल और सुमेध सैनी को गिरफ्तार करने की मांग

भगवंत मान ने एसआईटी की जांच रिपोर्ट पर तसल्ली तो जताई परंतु चालान पेश करने में दिखाई देरी पर सवाल भी उठाए।

0 62

Warning: A non-numeric value encountered in /home/northcyp/public_html/wp-content/themes/publisher1/includes/func-review-rating.php on line 212

Warning: A non-numeric value encountered in /home/northcyp/public_html/wp-content/themes/publisher1/includes/func-review-rating.php on line 213

भगवंत मान ने कहा कि एसआईटी की तरफ से दोषियों के तौर पर बादल और सैनी के विरुद्ध चालान पेश करने के उपरांत अब सुखबीर बादल और सैनी का खुला घूमना ठीक नहीं है क्योंकि इन दोनों प्रभावशाली दोषी जांच को प्रभवित कर सकते हैं |

अक्तूबर 2015 में हुई गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की घटनाओं की जांच कर रही विशेष जांच समिति (सिट) ने तत्काली गृह और उप मुख्य मंत्री सुखबीर सिंह बादल, तत्कालीन डीजीपी पंजाब सुमेध सिंह सैनी, डेरा सिरसा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के विरुद्ध साजिशकर्ता के तौर पर चालान पेश करने के मद्देनजर आम आदमी पार्टी (आप) पंजाब के प्रधान और संसद भगवंत मान ने मांग की है कि सुखबीर सिंह बादल और सुमेध सैनी को तुरंत गिरफ्तार किया जाए।

भगवंत मान ने कहा कि एसआईटी की तरफ से दोषियों के तौर पर बादल और सैनी के विरुद्ध चालान पेश करने के उपरांत अब सुखबीर बादल और सैनी का खुला घूमना ठीक नहीं है क्योंकि इन दोनों प्रभावशाली दोषी जांच को प्रभवित कर सकते हैं |

भगवंत मान ने एसआईटी की जांच रिपोर्ट पर तसल्ली तो जताई परंतु चालान पेश करने में दिखाई देरी पर सवाल भी उठाए। मान ने दोष लगाया कि कैप्टन अमरिन्दर सिंह निजी और राजनैतिक तौर पर बादल परिवार के पहरेदार के तौर पर काम कर रहे हैं| यदि कैप्टन चाहते तो 2017 में सरकार बनाने के तुरंत बाद सुखबीर सिंह बादल, सुमेध सैनी और अन्य को इस गुनाह के बदले कब के सलाखों के पीछे धकेल चुके होते।

भगवंत मान ने कहा कि कैप्टन और केंद्र की मोदी सरकार ने लोक सभा चुनाव -2019 के गुजरने के लिए बेअदबी मामले में बादल परिवार पर पूरी मेहरबानी रखी| क्योंकि जो चालान अब पेश हुआ है यह काफी पहले हो जाना था|

भगवंत मान ने कहा कि कुंवर विजय प्रताप सिंह की बदली भी एसआईटी की जांच रिपोर्ट और चालान लटकाए जाने की नीयत से उठाया गया ‘सरकारी’ कदम था।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.