हिमाचल विधान सभा चुनाव: मिशन रीपीट या डिलीट !

0
710

शिमला: इतवार को विधान सभा चुनाव हो रहे हैं| ये भाजपा के लिए मिशन रीपीट है और कांग्रेस का मिशन डिलीट | यानी भाजपा फिर से अपनी सरकार बनाना चाहती है और कांग्रेस भाजपा को हटा कर सत्ता में लौटना चाहती है|

प्रदेश के मतदाता पहले की तरह शांत हैं| यानी उनका मूड 20 दिसंबर को ही पता चलेगा | लेकिन अबकी बार जो बात सामने आई वह ये की ना भाजपा ओर ना ही कांग्रेस की कोई लहर दिखाई दे रही है| ऐसा इसलिए क्योंकि 459 उम्मीदवारों में से 105 आज़ाद चुनाव लड़ रहे हैं | और अबकी बार भाजपा से टूटे लोगों की हिलोपा भी लड़ाई के मैदान मे है| कांग्रेस-भाजपा के बागी उम्मीदवार और हिलोपा अबकी बार इन दोनो पार्टियों का खेल बिगाड़ने वाली है|

2007 के चुनावों मे भाजपा को 41 और कांग्रेस को 23 सीटें मिली थी| एक सीट बसपा और 3 आज़ाद जीत कर विधानसभा पहुँचे थे| अबकी बार कांग्रेस और भाजपा के वोट बैंक पर तीसरी शक्ति यानी आज़ाद और दूसरी पार्टियों की नज़र है और वह कामयाब भी ज़रूर होंगे|

पिछली बार 22 सीटों पर 2500 से कम मतों पर जीत दर्ज की गई थी| और 40 सीटों पर जीत 5000 मतों के अंतर से थी| यानी कांग्रेस भाजपा के नज़दीक ही थी|

अबकी बार दोनो प्रमुख पार्टियों भाजपा और कांग्रेस ने मतदाताओं के हर वर्क को रीझाने का भरपूर प्रयास किया है| कहीं नौकरियाँ तो कहीं उपहार तो कहीं पेंशन और दिहाड़ी बढ़ाने के लुभावने वादे|

देखना ये है की मतदाता किस पर अपना भरोसा जताते हैं|

Elections ,Himachal Pradesh, India, voting, BJP, Congress, third front, independents

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here