North India Times
North India Breaking political, entertainment and general news

हेल्थ पहचान पत्र की पूरी जानकारी,NHID कैसे काम करेगा

हेल्थ पहचान पत्र : स्वास्थय का आधार कार्ड होगा जिसमें आपके स्वास्थय और सरकार द्वारा दी जाने वाली स्वास्थय सुविधाओं की जानकारी रहेगी

0 31

Warning: A non-numeric value encountered in /home/northcyp/public_html/wp-content/themes/publisher1/includes/func-review-rating.php on line 212

Warning: A non-numeric value encountered in /home/northcyp/public_html/wp-content/themes/publisher1/includes/func-review-rating.php on line 213

हेल्थ पहचान पत्र यानि डिजिटल हेल्थ आईडी क्या है

देश में अब आधार कार्ड का एक दूसरा अवतार हेल्थ पहचान पत्र (Digital Health ID) के रूप में सामने आ रहा है। यानि जिस तरह आपकी जानकारी आधार कार्ड के QR कोड में समाहित रहती है उसी तरह अब आपके स्वास्थय की जानकारी भी एक कार्ड में उपलब्ध रहेगी।

आपको स्वास्थ्य सम्बन्धी क्या- क्या दिक्कतें हैं या आप का कौन सा इलाज चल रहा है अदि जानकारी हेल्थ पहचान पत्र में रहेगी।

हर नागरिक को आधार कार्ड की तरह हेल्थ पहचान पत्र (डिजिटल हेल्थ आईडी) का भी अलग से एक नंबर मिलेगा। इसमें मरीज का नाम, पता, स्वास्थ्य संबंधी हर तरह की तकलीफ, जांच रिपोर्ट, दवा, एडमिशन, डिस्चार्ज और चिकित्सक से जुड़ी सभी जानकारी रहेगी। हेल्थ आईडी के जरिए मरीज की पूरी मेडिकल हिस्ट्री को जाना जा सकता है।

साल 2020 स्वंत्रता दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  ने राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन (एनडीएचएम) की घोषणा की है ।

हेल्थ पहचान पत्र और राष्ट्रीय स्वास्थ्य आईडी प्रणाली कैसे काम करेगी

राष्ट्रीय स्वास्थ्य आईडी हर नागरिक की स्वास्थ्य संबंधी जानकारी समाहित करेगा । राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (एनएचए) के अनुसार, प्रत्येक मरीज को अपने स्वास्थ्य रिकॉर्ड को डिजिटल रूप से उपलब्ध करवाने के लिए हेल्थ कार्ड उपलब्ध करवाया जायेगा।

प्रत्येक स्वास्थ्य आईडी को एक स्वास्थ्य डेटा सहमति प्रबंधक से जोड़ा जाएगा – जैसे कि राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन (NDHM). इस कार्ड का उपयोग रोगी की सहमति लेने और व्यक्तिगत स्वास्थ्य रिकॉर्ड मॉड्यूल से स्वास्थ्य जानकारी के सहज प्रवाह की अनुमति देने के लिए किया जाएगा।

हेल्थ आईडी एक व्यक्ति के मूल विवरण और मोबाइल नंबर या आधार संख्या का उपयोग करके बनाई गई है। यह उस व्यक्ति के लिए अद्वितीय होगा। उनके पास अपने सभी स्वास्थ्य रिकॉर्ड को इस आईडी से लिंक करने का विकल्प भी होगा।

स्वास्थ्य आईडी /हेल्थ पहचान पत्र के लिए मूल प्रस्ताव क्या था?

राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति 2017 ने एक डिजिटल स्वास्थ्य प्रौद्योगिकी के निर्माण की परिकल्पना की है। जिसका उद्देश्य एक एकीकृत स्वास्थ्य सूचना प्रणाली विकसित करना है जो सभी हितधारकों की जरूरतों को पूरा करे।

सार्वजनिक और निजी स्वास्थ्य सेवा के साथ जुड़ाव के साथ दक्षता, पारदर्शिता और नागरिकों के अनुभव को बेहतर बनाए।

हेल्थ पहचान पत्र  किन प्रणालियों के साथ सहभागिता करेगा

जैसा कि परिकल्पित किया गया है, विभिन्न स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं – जैसे कि अस्पताल, प्रयोगशालाएं, बीमा कंपनियां, ऑनलाइन फ़ार्मेसी, टेलीमेडिसिन फ़र्म – से स्वास्थ्य आईडी प्रणाली में भाग लेने की उम्मीद की जाएगी।

रणनीति अवलोकन दस्तावेज़ बताता है कि डिजिटल हेल्थ आईडी का विकल्प होगा, अगर कोई व्यक्ति हेल्थ आईडी नहीं चाहता है, तो उपचार की भी अनुमति दी जानी चाहिए।

एनएचएम तैयार करेगा नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय का हिस्सा है है। नेशनल हेल्थ अथॉरिटी (एनएचए) नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन  को तैयार करेगा। एनएचए इससे पहले आयुष्मान भारत और प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना देशभर में लागू कर चुका है ।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य आईडी के जरिये सभी को मिलेगा सस्ता और सुरक्षित इलाज

राष्ट्रीय स्वास्थ्य आईडी योजना के जरिये देश के हर नागरिक को सस्ता और सुरक्षित इलाज मिलेगा । डॉक्टर की फीस देना और मरीज का पंजीकरण सबकुछ ऑनलाइन होगा।

इस योजना के जरिये डॉक्टर, अस्पताल, प्रयोगशालाएं , स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराने वाले संस्थान, दवा दुकानें, बीमा कंपनियां एक क्लिक पर उपलब्ध रहेंगे । इस सेवाओं में ई-फॉर्मेसी और टेलिमेडिसिन ,स्वास्थ्य संबंधी व्यक्तिगत जानकारी, स्वास्थय परामर्श आदि उपलब्ध रहेंगी।

 

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.