North India Times
North India Breaking political, entertainment and general news

‘आप’ विधायकों ने मनप्रीत बादल के वित्तीय सुधारों को बचकाना करार दिया

जनता और मुलाजिमों का हक छीन बचकाना कटौतियां करने से हल नहीं होगा वित्तीय संकट -आप

0 38

Warning: A non-numeric value encountered in /home/northcyp/public_html/wp-content/themes/publisher1/includes/func-review-rating.php on line 212

Warning: A non-numeric value encountered in /home/northcyp/public_html/wp-content/themes/publisher1/includes/func-review-rating.php on line 213

सरकारी डाक्टरों का लगभग नॉन प्रेक्टिस अलाउंस (एनपीए) बंद करके उनको निजी प्रेक्टिस की छुट देने का फैसला, 8 घंटे ड्यूटी करने का वायदा करके पुलिस मुलाजिमों से 24 घंटे ड्यूटी करवा कर उनको दशकों से मिलती आ रही 13वीं तनख्वाह बंद करके, लोक कल्याण सहूलता, विकास कामों और सरकारी जन सेवाओं को छीके पर टांग कर सरकारी विभागों में 20 प्रतिश्त कटौती करने जैसे फैसलों के साथ पंजाब का मौजूदा वित्तीय संकट का हल नहीं होने वाला। 

चंडीगढ़ :  आम आदमी पार्टी (आप) पंजाब ने राज्य के वित्तीय संकट के लिए सरकार को ही जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि कैप्टन अमरिन्दर सिंह सरकार इस संकट से उभरने के लिए जो कदम उठा रही है, वह बेहद बचकाना और बेहद निराश करन वाला हैं।

 ‘आप’ हैडक्वाटर द्वारा जारी बयान में पार्टी की कोर समिति के चेयरमैन और विधायक प्रिंसीपल बुद्ध राम, विपक्ष की उप नेता बीबी सरबजीत कौर माणूंके, एन.आर.आई विंग के राज्य प्रधान जै कृष्ण सिंह रोड़ी और विधायक कुलवंत सिंह पंडोरी ने कहा कि वित्तीय तौर पर पंजाब सरकार वेंटिलेटर पर चली गई है, कैप्टन अमरिन्दर सिंह और उनके वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल राज्य को वित्तीय संकट से निकालने की बजाए ओर गहराई की तरफ धकेल रहे हैं।

बेहतर होता कि यदि सरकार बहुभांती माफिया, ऊपर से नीचे तक फैले भ्रष्टाचार और सरकारी खजाने की प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष रूप में लगता चूना बंद करके अपने सभी साधनों-स्रोतों का मुंह सरकारी खजाने की तरफ करती, परंतु ऐसा न करके वित्त मंत्री हलकी और बचकाना कोशिशों के साथ दिन गुजारने की संकुचित सोच का प्रगटावा कर रहे हैं।

सरकारी डाक्टरों का लगभग नॉन प्रेक्टिस अलाउंस (एनपीए) बंद करके उनको निजी प्रेक्टिस की छुट देने का फैसला, 8 घंटे ड्यूटी करने का वायदा करके पुलिस मुलाजिमों से 24 घंटे ड्यूटी करवा कर उनको दशकों से मिलती आ रही 13वीं तनख्वाह बंद करके, लोक कल्याण सहूलता, विकास कामों और सरकारी जन सेवाओं को छीके पर टांग कर सरकारी विभागों में 20 प्रतिश्त कटौती करने जैसे फैसलों के साथ पंजाब का मौजूदा वित्तीय संकट का हल नहीं होने वाला।

‘आप’ नेताओं ने कहा कि जितनी देर कैप्टन सरकार रेत माफिया, शराब माफिया, सडक़ माफिया, बिजली माफिया, केबल माफिया, ट्रांसपोर्ट माफिया, मंडी माफिया, सेहत माफिया, शिक्षा माफिया और लैंड माफिया और भ्रष्टाचार का 100 प्रतीशत सफाया करने के लिए दृढ़ता और इमानदारी के साथ कदम नहीं उठाती तब तक राज्य का वित्तीय संकट ओर गहरा होता रहेगा।

‘आप’ नेताओं ने कहा कि माफिया न केवल सरकारी खजाने की लूट करता है। बल्कि पहले ही महंगाई और अन्य अनगिणत चुणौतियों का सामना कर रही आम और खास जनता की सीधे तौर पर जेब लूट रहा है।
प्रिंसीपल बुद्ध राम और बीबी माणूंके ने राज्य सरकार से मांग की  है कि आगामी विधान सभा सैशन दौरान मुख्य मंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह और उनके निखद्द वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल पंजाब के वित्तीय हलातों संबंधी ‘वाइट पेपर’ जारी करे और राज्य और लोगों को इस वित्तीय संकट की मार से निकालने के बारे में अपनी रणनीति पंजाब के लोगों के साथ सांझी करें।

‘आप’ विधायक रोड़ी और पंडोरी ने केंद्र की सरकार की तरफ से पंजाब का जीएसटी रिफंड दबाए रखने पर मोदी सरकार की सख्त निंदा की और इस लिए कैप्टन के साथ-साथ केंद्रीय सत्ता भोग रहा बादल परिवार भी बराबर का जिम्मेदार है।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.