North India Times
North India Breaking political, entertainment and general news

सुशांत सिंह राजपूत का फिल्मी सफर और उपन्यास कनेक्शन

सुशांत सिंह की पहली फिल्म भी एक उपन्यास पर आधारित थी और उनकी आखिरी फिल्म भी एक उपन्यास की कहानी पर ही बनाई गई थी

0 20

Warning: A non-numeric value encountered in /home/northcyp/public_html/wp-content/themes/publisher1/includes/func-review-rating.php on line 212

Warning: A non-numeric value encountered in /home/northcyp/public_html/wp-content/themes/publisher1/includes/func-review-rating.php on line 213

काई पोचे से दिल बेचारा तक , किस्मत का खेल:

सुशांत सिंह राजपूत की पहली फिल्म एक उपन्यास पर आधारित थी और आखरी फिल्म भी उपन्यास पर  ही बनी।

यह कहानी बॉलीवुड के उस चहेते फिल्म कलाकार सुशांत सिंह राजपूत की है जिसका फिल्मी कैरियर एक उपन्यास से शुरू हुआ और एक उपन्यास के किरदार को निभाते निभाते ही खत्म हो गया।

हम बात कर रहे हैं सुशांत सिंह राजपूत की डेबू फिल्म ‘काई पोचे’ की जो चेतन भगत के चर्चित novel ‘थ्री मिस्टेक्स ऑफ माय लाइफ’ पर आधारित थी।

इसे भाग्य की विडंबना ही कहिए कि सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ भी अंग्रेजी के उपन्यास ‘ The Fault in Our Stars’ पर आधारित है।

फर्क सिर्फ इतना है कि जिस वक्त सुशांत सिंह राजपूत ने ‘काई पोचे’ की थी उस वक्त उनकी जिंदगी में वह मानसिक दर्द नहीं था जिससे वह ‘दिल बिचारा’ करते वक्त जूझ रहे थे।

‘दिल बेचारा ‘ फिल्म के बनने और रिलीज होने की भी एक कहानी है

पहले बड़ी स्क्रीन पर रिलीज होने वाली दिल बेचारा को बाद में क्यों सिर्फ ओटीटी प्लेटफॉर्म पर रिलीज किया गया इसके पीछे भी कहानी है।

‘दिल बेचारा’ न केवल सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म है बल्कि शायद उनकी मौत के लिए जिम्मेदार कई कारणों में से एक कारण इसकी रिलीज भी है ।

सुशांत सिंह राजपूत से जुड़े सूत्रों के मुताबिक वह इस फिल्म को थियेटर में रिलीज ना होने से खुश नहीं थे।

फिल्म इसलिए भी खास है क्योंकि सुशांत सिंह राजपूत ने अपनी मौत से कुछ दिन पहले ही इस फिल्म की शूटिंग पूरी की थी।

इस फिल्म का नाम पहले ‘कीजे और मन्नी’ था जिसे बाद में ‘दिल बेचारा’ कर दिया गया।

‘दिल बेचारा’ का न केवल नाम बल्कि कई कारणों से इसकी रिलीज की तारीख भी बार-बार आगे पीछे खिसकती रही।

‘दिल बेचारा’ फिल्म का निर्माण करने वाली कंपनी के मुताबिक पहले पोस्ट प्रोडक्शन में हुई देरी और बाद में कोरोनावायरस की महामारी फैलने के बाद फिल्म की रिलीज को बार-बार पोस्टपोन करना पड़ा। लेकिन सूत्रों की बात माने तो इस फिल्म के थियेटरों में रिलीज ना होने के लिए एंटी सुशांत सिंह लॉबी भी जिम्मेवार थी।

जुलाई 2018 में सुशांत सिंह राजपूत ने ‘दिल बेचारा’ फिल्म की शूटिंग शुरू होने के मौके पर फिल्म के पोस्टर को ट्विटर पर सांझा किया था । वह इस फिल्म की रिलीज को लेकर उन्हें काफी उम्मीदें थी क्योंकि कुछ लोगों की दखलंदाजी के चलते कई बड़ी फिल्में उनके हाथ से फिसल गई थी।

दिल बेचारा कैंसर से पीड़ित दो मरीजों की प्रेम कहानी है जिसमें सुशांत सिंह राजपूत और संजना संघी ने प्रमुख भूमिका निभाई हैं । यह फिल्म जॉन ग्रीन की नावेल ‘ The Fault in Our Stars पर आधारित है ।

साल 2014 में आई हॉलीवुड की ब्लॉकबस्टर ‘The Fault in Our Stars’ फिल्म भी इसी उपन्यास पर आधारित थी।

दिल बेचारा फिल्म में सुशांत सिंह राजपूत ने मनी और संजना संघी ने कीजे का रोल निभाया है । इस फिल्म में सैफ अली खान आफताब की भूमिका में है।

फिल्म के कुछ हिस्से जमशेदपुर और कुछ फ्रांस में शूट किए गए थे।

दिल बेचारा फिल्म के डायरेक्टर मुकेश छाबड़ा ने इंस्टाग्राम में कहा था कि सुशांत न केवल फिल्म के हीरो थे बल्कि उनके दोस्त भी। छाबड़ा के मुताबिक सुशांत सिंह ने काई पोचे से लेकर दिल बेचारा तक उनका भरपूर साथ दिया था।

सौतेले व्यवहार और भाई भतीजावाद की भेंट चढ़ गया सुशांत

सुशांत सिंह राजपूत ने 14 जून को मुंबई में आत्महत्या कर ली थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक उनकी मौत दम घुटने से हुई थी । कहा जा रहा है कि सुशांत सिंह राजपूत एक सक्सेसफुल फिल्मी करियर होने के बावजूद भी मानसिक तनाव में जी रहे थे।

यह तनाव बॉलीवुड में फैले भाई भतीजावाद , कुछ दबंग लोगों की दादागिरी और परिवारवाद को बढ़ावा देने वाले लोगों की तरफ से मिला था।

हमें बेहद अफसोस है कि सुशांत सिंह जैसा बेहतरीन कलाकार फिल्म उद्योग के सौतेले व्यवहार के कारण अपनी जिंदगी से हाथ धो बैठा।

देश सुशांत सिंह राजपूत को उनकी यादगार भूमिकाओं के लिए हमेशा याद रखेगा।

You might also like

Leave A Reply

Your email address will not be published.