North India Times
North India Breaking political, entertainment and general news

शिमला :चार साल के मासूम को अगवा कर हत्या के दोषियों को फाँसी की सज़ा

219

Warning: A non-numeric value encountered in /home/northcyp/public_html/wp-content/themes/publisher1/includes/func-review-rating.php on line 212

Warning: A non-numeric value encountered in /home/northcyp/public_html/wp-content/themes/publisher1/includes/func-review-rating.php on line 213

शिमला के बहुचर्चित युग अपहरण और हत्याकांड के दोषियों तेजेंद्र सिंह, चंद्र शर्मा और विक्रांत बक्शी को बुधवार को शिमला की एक अदालत ने मौत की सज़ा सुनाई | अदालत ने आरोपियों को दी जाने वाली सज़ा का ऐलान 7 अगस्त को तय किए गये आरोपों के आधार पर किया|

तेजेंद्र सिंह, चंद्र शर्मा और विक्रांत बक्शी ने शिमला के राम बाजार में रहने वाले चार साल के युग का 4 जून 2014 को अपहरण कर लिया था |उसके बाद बच्चे के पिता विनोद कुमार से फिरौती माँगी गई| लेकिन बाद में पकड़े जाने के डर से इन हैवानों ने मासूम की हत्या कर दी| जाँच में सामने आया था की मासूम की हत्या करने से पहले उसे जबरन शराब पिला कर यातनाएँ दी गई थी | उसके बाद शव को ठिकाने लगाने के लिए पत्थर बाँध कर शिमला के एक पेयजल टेंक में फेंक दिया गया|

तीनों हत्यारों को दो साल बाद अगस्त 2016 में गिरफ्तार कर लिया गया उसके बाद 15 माह तक ट्रायल चला| सज़ायाफ्ता तेजेंद्र सिंह, चंद्र शर्मा और विक्रांत बक्शी एक महीने के भीतर हाईकोर्ट में अपील कर सकते हैं |

युग के अपहरणकर्ताओं और  हत्यारों का प्रोफाइल

img_20180905_181215चंदर शर्मा (26) : युग अपहरण और हत्याकांड का मास्टरमाइंड यानी करता धर्ता युग का पड़ौसी है और युग का परिचित था| शिमला के राम बाज़ार में इसकी एक दुकान है तथा यह अपहरण करने से पहले शिमला के ला-कालेज का छात्र था| चंद्र ने ही युग के अपहरण की योजना बनाई थी और उसने ही अपने षड्यंत्र में दूसरे आरोपियों तेजंद्र पाल और विक्रांत बक्शी को शामिल किया था क्योंकि वह उसके दोस्त थे और जल्द अमीर बनाना चाहते थे |

चंद्र शर्मा युग का अपहरण करने के बाद घटना से अंजान बन कर उसके पिता के साथ पुलिस स्टेशन गया और मदद करने का ड्रामा करता रहा| इससे पहले भी उसके खिलाफ कोरियर से इलेक्ट्रॉनिक्स चुराने का मामला दर्ज किया गया था |

Tejdnder Pal
Tejdnder Pal

तेजेंद्र पाल (29) : शिमला के रामबाज़ार में कॉसमेटिक्स की दुकान चलाता था | वह चंद्रर शर्मा का दोस्ता था और उसके षड्यंत्र में शामिल हो गया| दोनो काफ़ी करीबी दोस्ते थे और अपनी उल्टी सीधी हरकतों के लिए बदनाम थे |

img_20180905_181231विक्रांत बक्शी (22) : वैसे तो एक शरीफ घराने से ताल्लुक रखता है और पिता शिमला में सरकारी कर्मचारी थे लेकिन चंदर शर्मा और तेजंद्र पाल के बहकावे मे आ कर वह अपहरण और हत्या में शामिल हो गया| अपहरण से पहले वह चंडीगढ़ के एक कालेज में पढ़ रहा था |

You might also like

Comments are closed.